Follow Me on Pinterest

उनको मेरे इन्तजार पे यकीन

उनको मेरे इन्तजार पे यकीन न था,
मेरी नज़रों में उन जैसा कोई हसीं न था,
मेरे अश्क और लहू जुदा हो रहे थे मुझसे,
उनके सिवा कोई मेरा जा-नशीं भी तो न था !!!

Get Free Email Updates Daily

Thanks for visiting Shayari Unplugged. Kindly Bookmark and Share

Technorati Digg This Stumble Stumble Facebook Delicious blinklist google myspace googleplus sharethis

Leave a comment