Follow Me on Pinterest

जिस शाम में मेरे लब

जिस शाम में मेरे लब पर आपका नाम न आए,
खुदा करे कि कभी ऐसी शाम न आए,
ऐ जाने वफ़ा यह कभी मुमकिन नहीं कि,
अफसाना लिखूं  और आपका नाम न आए !!!

Get Free Email Updates Daily

Thanks for visiting Shayari Unplugged. Kindly Bookmark and Share

Technorati Digg This Stumble Stumble Facebook Delicious blinklist google myspace googleplus sharethis

Leave a comment